Home / Odisha / धान की बिक्री में टोकन सिस्टम से आ रही दिक्कतों पर सत्तारुढ़ विधायकों ने सरकार को घेरा

धान की बिक्री में टोकन सिस्टम से आ रही दिक्कतों पर सत्तारुढ़ विधायकों ने सरकार को घेरा

भुवनेश्वर – धान की बिक्री में राज्य सरकार द्वारा शुरु किये गये टोकन सिस्टम के कारण किसानों को समस्याएं आ रही हैं। इसे लेकर किसानों में काफी आक्रोश है। सत्तारुढ़ बीजद के विधायकों ने इन शब्दों के साथ गुरुवार को विधानसभा में राज्य के खाद्य आपूर्ति मंत्री रणेन्द्र प्रताप स्वाईं को घेरा। प्रश्नकाल में धान की खरीद को लेकर पूछे गये सवाल पर चर्चा के दौरान बीजद विधायक देवेश आचार्य तथा सरकारी पार्टी के उप मुख्य सचेतक रोहित पुजारी ने विभागीय मंत्री श्री स्वाईं को असहज स्थिति में डाल दिया। इस पर विभागीय मंत्री श्री स्वाईं ने कहा कि राज्य सरकार सही किसानों के लिए आ रही समस्याओं के समाधान करने के लिए तैयार है, लेकिन जो गैर किसान हैं और इसका लाभ लेना चाहते हैं उन्हें सरकार इसका लाभ नहीं देने देगी। प्रश्नकाल में देवेश आचार्य के एक सवाल का मंत्री श्री स्वाईं जवाब दे रहे थे। एक पूरक प्रश्न पूछते हुए श्री आचार्य़ ने कहा कि पारदर्शिता के नाम पर किसानों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए। यदि समय पर किसानों की धान की बिक्री नहीं होगी तो फिर उन्हें उनके अगले फसल के लिए दिक्कत आएगी। उन्होंने कहा कि इंटरनेट के जरिये टोकन जेनरेट किया जा रहा है तथा किसानों को एसएमएस भेजा जा रहा है। अनेक इलाकों में इंटरनेट की सुविधा नहीं है। उन स्थानों पर टोकन सिस्टम को लागू करने पर किसान कैसे अपना धान बेच सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के हितों का ध्यान रखना चाहिए। उधर, सत्तारुढ़ पार्टी के उप मुख्य सचेतक रोहित पुजारी ने कहा कि एक बार धान की बिक्री कर लेने के बाद बचे हुए धान की बिक्री कैसे होगी इसके बारे में किसानों को जानकारी नहीं मिल पा रहा है। इस कारण वे परेशान हैं। उहोंने कहा कि इस तरह के किसानों को बताया जा रहा है कि 15 दिनों के बाद उनके बचे हुए धान की खरीद होगी, लेकिन यह 15 दिन का जो चक्र है यह काफी लंबा है। इसे छोटा किया जाना चाहिए। किसानों को आ रही दिक्कतों का समाधान निकाला जाना चाहिए, क्योंकि किसानों में काफी आक्रोश है।

Share this news

About desk

Check Also

आज तक जारी होगी रत्नभंडार के लिए एसओपी : कानून मंत्री हरिचंदन

कहा-सुझाए गए एसओपी की सभी पहलुओं की हो रही है जांच भुवनेश्वर। पुरी श्रीमंदिर के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *