Home / Odisha / विकसित भारत का रास्ता खोलेगा ओडिशा, स्टार्टअप बनेंगे कर्णधार
विकसित भारत का रास्ता खोलेगा ओडिशा, स्टार्टअप बनेंगे कर्णधार -धर्मेंद्र प्रधान

विकसित भारत का रास्ता खोलेगा ओडिशा, स्टार्टअप बनेंगे कर्णधार

  •  100 करोड़ टर्नओवर में 100 स्टार्टअप को शामिल करने का लक्ष्य – धर्मेंद्र प्रधान

हेमन्त कुमार तिवारी, भुवनेश्वर।

ओडिशा विकसित भारत का रास्ता खोलेगा तथा राज्य के स्टार्टअप इसके लिए कर्णधार बनेंगे। ओडिशा के स्टार्टअप शुरू करने वाली युवा पीढ़ी पर भरोसा जताते हुए केंद्रीय शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि राज्य जब 100 का होगा, तब राज्य के 100 स्टार्टअप को 100 करोड़ के टर्नओवर की कंपनी परिवर्तित करने का उनका लक्ष्य है। स्टार्टअप को बढ़ावा देने और ओडिशा को औद्योगिक दुनिया के केंद्र के रूप में स्थापित करने के उद्देश्य से आईआईटी भुवनेश्वर के अनुसंधान और उद्यमिता पार्क में इसकी पहल शुरू होगी। प्रधान भुवनेश्वर में आयोजित फायरसाइड चैट कॉन्क्लेव में हिस्सा ले रहे थे।

कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री प्रधान ने 100क्यूब स्टार्टअप पहल पर विस्तार से जानकारी दी और ओडिशा और पूर्वी भारत को होने वाले फायदों के बारे में बताया। प्रधान ने ओडिशा के युवाओं को नवाचार और 100क्यूब स्टार्टअप से जोड़ने में आईआईटी भुवनेश्वर की भूमिका की सराहना की। उन्होंने कहा कि 2036 में ओडिशा पहले भाषाई राज्य के रूप में अलग प्रांत बनने के 100 साल पूरे कर लेगा। हाल के दिनों में आईआईटी भुवनेश्वर सहित केंद्र सरकार और ओडिशा सरकार के कई उच्च शिक्षण संस्थान ओडिशा में स्थापित किए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में स्टार्टअप को प्राथमिकता दी जा रही है और यहां कुशल मानव संसाधन और खनिज संसाधनों के साथ सभी सुविधाएं मौजूद हैं। 21वीं सदी में हमें नई पीढ़ियों के साथ ज्ञान का पुल बनाना होगा। इस समय तक, पार्क का लक्ष्य 100 करोड़ रुपये के औसत पूंजीकरण के साथ 100 स्टार्टअप बनाना है। दूसरे शब्दों में, विकसित भारत में जहां ‘पूर्व’ नरेंद्र मोदी की प्राथमिकता बनी हुई है, वहीं जब ओडिशा 100 साल का हो जाता है, तो एक सौ बच्चे 100 करोड़ के टर्नओवर में शामिल होंगे। यह लोगों, युवाओं और भविष्य की आकांक्षाएं हैं। इसके लिए जन-जागरूकता एवं अभियान प्रारंभ किया गया है। ओडिशा में स्टार्टअप कल्चर शुरू हो गया है। 2036 तक इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, स्टार्ट-अप को निवेशकों के साथ समन्वय करने के लिए आवश्यक संसाधन, सहायता और वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

ओडिशा मेरी कमजोरी

विकसित भारत100क्यूब स्टार्टअप और ओडिशा के युवाओं को इनोवेशन से जोड़ने पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ओडिशा के लिए मेरी बहुत बड़ी कमजोरी है। यहां के बच्चों में आविष्कार करने का शौक है। पुरी मंदिर, कोणार्क सूर्य मंदिर और लिंगराज मंदिर की स्थापत्य शैली और इसकी वैज्ञानिक पृष्ठभूमि और त्रुटिहीन कपड़ा और चावल उत्पादन सुविधाओं को देखकर ऐसा लगता है कि नवीनता ऑर्डिनेड पिला के डीएनए में है। बुर्ला में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे गरीब परिवारों के बच्चे हीरे की पानी के नीचे की दुनिया को मापने के लिए रॉकेट और ड्रोन जैसे उपग्रह बनाने की क्षमता रखते हैं। ओडिशा तभी प्रगति करेगा और भुवनेश्वर उसकी जन्मस्थली होगी, जब रूढ़िवादी बच्चों को नवप्रवर्तन से जोड़ा जाएगा। यहीं से विकसित भारत का रास्ता खुलेगा।

इस खबर को भी पढ़ेंः-एनटीपीसी का नया प्रयोग, पराली उगलेगी सोना, किसान होंगे मालामाल

दुनिया की समस्याओं का समाधान पूर्वी भारत से आएगा

उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में दुनिया की समस्याओं का समाधान पूर्वी भारत से आएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्वी भारत के बिना ओडिशा का विकास नहीं होगा। मुझे बच्चों से आशा है। देश का प्रतिभाशाली युवा इसी क्षेत्र से है। इस क्षेत्र में ज्ञान का खजाना छिपा है और जिनके पास कमाने की भूख या इच्छा है उन्हें इसकी तलाश अवश्य करनी चाहिए।

मोदी सरकार के महत्व पर प्रकाश डाला

इस अवसर पर प्रधान ने स्वच्छ ऊर्जा, हाइड्रोजन ईंधन और मोदी सरकार के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने हरित ईंधन और स्वच्छ ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में ओडिशा की स्टार्टअप के उदाहरण दिए। लोगों के जीवन को आसान बनाने और पर्यावरण को स्वच्छ रखने और कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए शुरू किया गया यह स्टार्टअप है।

ओडिशा के समृद्ध इतिहास को बताया

उन्होंने अपनी बंदरगाह आधारित अर्थव्यवस्था पर ओडिशा के अतीत के समृद्ध इतिहास के बारे में बात की। इसकी भौगोलिक स्थिति और क्षमता पर गुजरात, कर्नाटक, राजस्थान, केरल राज्यों के साथ तुलना की। इसी दौरान उन्होंने कहा कि भारत के विकास का रास्ता ओडिशा और पूर्वी भारत से होकर जाता है। प्रधान ने कहा कि मुझे यह विश्वास है कि आने वाले दिनों में ओडिशा का विकास होगा।

Share this news

About admin

Check Also

आज तक जारी होगी रत्नभंडार के लिए एसओपी : कानून मंत्री हरिचंदन

कहा-सुझाए गए एसओपी की सभी पहलुओं की हो रही है जांच भुवनेश्वर। पुरी श्रीमंदिर के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *