Home / BUSINESS / एनटीपीसी का नया प्रयोग, पराली उगलेगी सोना, किसान होंगे मालामाल,
एनटीपीसी का नया प्रयोग, पराली उगलेगी सोना, किसान होंगे मालामाल,

एनटीपीसी का नया प्रयोग, पराली उगलेगी सोना, किसान होंगे मालामाल,

  •  खेतों में अब जलाने की जरूरत नहीं, कोयले के साथ होगा प्रयोग

हेमन्त कुमार तिवारी, भुवनेश्वर।

एनटीपीसी के नये प्रयोग से देश में पर्यावरण को लेकर चिंता का विषय बनी पराली अब सोना उगलेगी। इससे किसान अब मालामाल होंगे। जी हां, यह बात बिल्कुल सच है। आज इनोवेशन के दौर में कुछ भी संभव है। कुछ ऐसा ही एक इनोवेशन सामने आया है कि पराली को अब खेतों में जलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

यदि अब पराली जलेगी तो यह पर्यावरण के लिए चिंता का विषय नहीं रहेगी, अपितु यह सोना उगलेगी और कई राज्यों को रोशन करते हुए किसानों को मालामाल करेगी।

दरअसल, बिजली उत्पादन के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निर्वहन कर रही एनटीपीसी ने कुछ ऐसा ही इनोवेशन किया है, जिसमें पराली का उपयोग बिजली उत्पादन के दौरान किया जा सकता है। हालांकि इसके लिए कुछ प्रक्रियाओं के दौर से इसको नए रूप देने की जरूरत होगी।

इस खबर को भी पढ़ें:-सीसीटीएनएस रैंकिंग में गंजाम पुलिस राज्य में शीर्ष पर

हालही में एनटीपीसी के पूर्वी क्षेत्र के कार्यकारी निदेशक सुदीप नाग ने बताया कि पराली को पैलेट्स के रूप में तैयार कर कोयले के साथ मिलकर बिजली उत्पादन के लिए उपयोग में लाया जा सकता है। एनटीपीसी के कुछ प्लांट में इसका प्रयोग किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इससे किसानों को काफी फायदा होगा और खेतों में पराली को अब जलाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

 उल्लेखनीय है कि थर्मल पावर संयंत्र में बिजली उत्पादन के लिए काफी मात्रा में कोयले की जरूरत पड़ती है। ऐसी स्थिति में कोयले के साथ पराली के पैलेट्स मिलकर बिजली उत्पादन के दौरान प्रयोग किया जा सकता है। इससे उत्पन्न होने वाले बिजली से कई राज्यों के घरों को रोशनी मिलेगी और पराली के पैलेट्स की बिक्री से किसानों को आय का एक नया जरिया मिलेगा।

बताया जाता है कि खेतों से पराली निकाल कर प्रक्रिया करके उसके पैलेट्स तैयार किए जाएंगे। ऐसी स्थिति में  रोजगार का एक नया क्षेत्र  सृजित होगा। क्योंकि भारत एक कृषि प्रधान देश है, ऐसी स्थिति में पराली हर मौसम में उपलब्ध होती है। यह पराली धान की हो सकती है, गेहूं की हो सकती है या अन्य फसलों की। इसलिए हर सीजन में काम के लिए कच्चा माल हर जगह आसानी से उपलब्ध होगा। हालांकि अब तक पराली का प्रयोग इथेनॉल के निर्माण में किया जाता रहा है, लेकिन अब एनटीपीसी का यह प्रयोग किसानों को मालामाल करने के लिए एक नई दिशा तैयार कर रहा है। बताया जाता है कि एनटीपीसी ने अब तक लाखों मीट्रिक टन की मात्रा में पराली पैलेट्स का प्रयोग बिजली उत्पादन में किया है।

Share this news

About admin

Check Also

इण्डो एशियन टाइम् Indo Asia Times ब्रेंकिंग न्यू, ताजा खबर आज का खबर खबरें चलाओ खबरें चलाओ बोलकर देखें ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी today ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी today headlines ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी up ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी today live ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी आज तक लाइव झारखण्ड ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी आज 15 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 14 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,बड़ी खबरें,हिंदी खबरें,आज 27 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 29 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 30 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 16 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 04 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 13 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 12 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 07 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 05 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 11 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 08 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार ब्रेकिंग न्यूज़ ताजा खबर,हिंदी खबरें,आज की ताज़ा ख़बर,राज्य समाचार,04 अक्टूबर 2023,11अक्टूबर 2023,भारत पाकिस्तान प्रेम कहानी,पाकिस्तानी महिला सीमा हैदर,आज 03 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 05 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार

इंडिगो की पहली फ्लाइट ने दिल्ली से अयोध्या धाम के लिए भरी उड़ान

नई दिल्ली। देश में सस्ती विमानन सेवा मुहैया कराने वाली इंडिगो की पहली फ्लाइट ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

Advertisement