Home / Sports / हॉकी ने जो कुछ भी दिया है, उसके लिए आभारी हूं: भारतीय गोलकीपर माधुरी किंडो

हॉकी ने जो कुछ भी दिया है, उसके लिए आभारी हूं: भारतीय गोलकीपर माधुरी किंडो

नई दिल्ली। भारतीय महिला टीम की गोलकीपर माधुरी किंडो, जिन्हें हाल ही में जूनियर टीम से पदोन्नत किया गया है, ने हॉकी को अपने जीवन में सम्मान और स्थिर आय का स्रोत देने का श्रेय दिया है।

माधुरी ओडिशा के बिरमित्रपुर के एक साधारण किसान परिवार से ताल्लुक रखती हैं। बिरमित्रपुर राउरकेला के राजसी बिरसा मुंडा हॉकी स्टेडियम से एक घंटे की दूरी पर है।

माधुरी ने अपने जीवन में हॉकी के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा, “बिरमित्रपुर में हमारे पास बिना पक्की छत वाले दो घर थे और परिवार में एकमात्र स्थिर आय मेरे भाई मनोज की थी। उन्होंने करीब एक साल तक नए घर के निर्माण का सारा खर्च उठाया। पश्चिमी रेलवे से नौकरी का प्रस्ताव मिलने के बाद, मैं आखिरकार उनके साथ बोझ साझा कर सकती थी। अपने भाई की मदद करने में सक्षम होना मेरे लिए संतुष्टिदायक था, क्योंकि उन्होंने मुझे उस खेल से परिचित कराया था। मैं हॉकी की आभारी हूँ जिसने मुझे आय, समुदाय में सम्मान और उपलब्धि दी।”
जब उनके पिता शंकर किंडो खेतों में काम करते थे, तब माधुरी अपने भाई मनोज किंडो के हॉकी कौशल से मोहित हो जाती थीं। उनके नक्शेकदम पर चलते हुए, माधुरी ने हॉकी स्टिक उठाई और 2012 में पानपोश स्पोर्ट्स हॉस्टल में शामिल हो गईं। माधुरी शुरू में एक डिफेंडर के रूप में शामिल हुईं, लेकिन अपने एथलेटिक कौशल और त्वरित प्रतिक्रियाओं के कारण, वह गोलकीपर बन गईं। ओडिशा से राष्ट्रीय चैंपियनशिप में कई बार भाग लेने के बाद, माधुरी को 2021 में भारतीय जूनियर टीम में शामिल किया गया। जापान में जूनियर महिला एशिया कप 2023 में उनके शानदार प्रदर्शन ने, जहाँ टीम ने स्वर्ण पदक जीता, चयनकर्ताओं का ध्यान आकर्षित किया, जिसके बाद उन्हें मुंबई में पश्चिमी रेलवे से नौकरी का प्रस्ताव मिला।

रेलवे स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड हॉकी टीम में जगह बनाने के अलावा, माधुरी ने इस साल अप्रैल में साई बेंगलुरु में एक मूल्यांकन शिविर के बाद भारतीय टीम में भी जगह बनाई है। हालाँकि उन्हें अभी सीनियर स्तर पर पदार्पण करना बाकी है, लेकिन माधुरी अपनी आदर्श सविता के साथ प्रशिक्षण के अवसर का भरपूर आनंद ले रही हैं।
उन्होंने हॉकी इंडिया के हवाले से कहा, “जूनियर और सीनियर टीमों के बीच का अंतर इतना ज़्यादा नहीं है क्योंकि टीम में मेरे पास सविता, बिचू देवी खारीबाम और बंसरी सोलंकी जैसे सीनियर खिलाड़ी हैं जो मेरे खेल में मेरी मदद करते हैं। उन्हें हर दिन कड़ी ट्रेनिंग करते हुए देखने से मुझे उच्चतम स्तर पर खेल के बारे में ज़्यादा जानकारी हासिल करने में मदद मिली है। मेरे पास सुधार की बहुत गुंजाइश है और जैसे-जैसे मैं टीम में अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रही हूँ, मैं अपनी कमज़ोरियों पर काम कर रही हूँ ताकि मैं भविष्य में टीम को जीत दिला सकूँ। मैं दुनिया भर की सर्वश्रेष्ठ टीमों के खिलाफ़ खेलने के लिए उत्सुक हूँ।”
साभार – हिस

Share this news

About desk

Check Also

‘Grinding for the greatest’: Shami hits the nets, eyes India return

Having been away from the cricket field since the ODI World Cup in November last …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *