Home / National / इतिहास के पन्नों में 10 दिसंबरः मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का बड़ा दिन
इण्डो एशियन टाइम् Indo Asia Times ब्रेंकिंग न्यू, ताजा खबर आज का खबर खबरें चलाओ खबरें चलाओ बोलकर देखें ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी today ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी today headlines ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी up ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी today live ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी आज तक लाइव झारखण्ड ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी आज 15 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 14 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,बड़ी खबरें,हिंदी खबरें,आज 27 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 29 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 30 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 16 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 04 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 13 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 12 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 07 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 05 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 11 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 08 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार ब्रेकिंग न्यूज़ ताजा खबर,हिंदी खबरें,आज की ताज़ा ख़बर,राज्य समाचार,04 अक्टूबर 2023,11अक्टूबर 2023,भारत पाकिस्तान प्रेम कहानी,पाकिस्तानी महिला सीमा हैदर,आज 03 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार,आज 05 सितंबर 2023 के मुख्य समाचार

इतिहास के पन्नों में 10 दिसंबरः मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का बड़ा दिन

देश-दुनिया के इतिहास में 10 दिसंबर का इतिहास तमाम अहम वजह से दर्ज है। यह तारीख मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के लिए बड़े दिन जैसी है।संयुक्त राष्ट्र ने 1950 में 10 दिसंबर को मानवाधिकार दिवस घोषित किया था। इसका मकसद था कि सभी लोगों को उनके अधिकारों के बारे सही और सटीक जानकारी मिल सके। दरअसल, संविधान में हर इंसान के कुछ मौलिक अधिकार हैं। इनकी जानकारी हर एक को नहीं होती। ऐसे लोगों को जागरूक करने के लिए यह दिवस मनाया जाता है। मानवाधिकार का मतलब किसी भी इंसान को जिंदगी, आजादी, बराबरी और सम्मान का अधिकार होता है। भारत में मानवाधिकार कानून को अमल में लाने के लिए लंंबा वक्त लगा। देश में 28 सितंबर 1993 को मानवाधिकार कानून अमल में आया। 12 अक्टूबर 1993 को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का गठन किया गया। मानवाधिकार आयोग राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्षेत्रों में भी काम करता है।

महत्वपूर्ण घटनाचक्र

1582ः फ्रांस ने ग्रेगोरियन कैलेंडर का इस्तेमाल करना शुरू किया।
1887ः आस्ट्रिया, हंगरी, इटली और ब्रिटेन के बीच बाल्कन सैन्य समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।
1902ः तस्मानिया में महिलाओं को वोट देने का अधिकार प्रदान किया गया।
1903ः पियरे क्यूरी और मैरी क्यूरी को भौतिक विज्ञान के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
1947ः सोवियत संघ और चेकोस्लोवाकिया के बीच व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर।
1961ः सोवियत संघ और अल्बानिया के बीच राजनयिक संबंध समाप्त।
1963ः अफ्रीकी देश जंजीबार ने ब्रिटेन से स्वतंत्रता हासिल की।
1994ः यासर अराफात, वित्जाक राबिन एवं शिमोन पेरेज संयुक्त रूप से नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित।
1998ः अमर्त्य सेन को स्काटहोम में अर्थशास्त्र के लिए 1998 का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।
1999ः अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आतंकवाद समाप्त करने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ समझौते के अनुसार आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन उपलब्ध कराना आर्थिक अपराध घोषित।
2000ः नवाज शरीफ सपरिवार पाकिस्तान से दस साल के लिए निर्वासित।
2002ःअमेरिका की दूसरी सबसे बड़ी वायुसेवा कंपनी यूनाइटेड एयरलाइंस दिवालिया घोषित।
2003ः कोलंबो में तत्कालीन राष्ट्रपति चंद्रिका कुमारतुंगा और तत्कालीन प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंधे के बीच वार्ता विफल।
2004ः ढाका टेस्ट में कपिल देव को पीछे छोड़ते हुए अनिल कुंबले टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले पहले भारतीय बने।
2005ः कजाकिस्तान में हुए राष्ट्रपति चुनाव में वर्तमान राष्ट्रपति नूर सुल्तान नजर बायेब पुन: निर्वाचित।
2013ः मादक पदार्थ मारिजुआना के विकास, बिक्री और उपयोग को वैध बनाने वाला उरूग्वे पहला देश बना।
जन्म
1870ः प्रसिद्ध इतिहासकार यदुनाथ सरकार।

1878ः वकील, लेखक, राजनीतिज्ञ और दार्शनिक चक्रवर्ती राजगोपालाचारी।

1888ः स्वतंत्रता सेनानी प्रफुल्लचंद चाकी।

1902ः भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एस. निजलिंगप्पा।

1908ः भारतीय पुरातत्वविद् हंसमुख धीरजलाल सांकलिया।

निधन

1963ः कर्नाटक के प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ और विद्वान पणीक्कर केएम।
1995ः स्वतंत्रता सेनानी और प्रसिद्ध नेता चौधरी दिगम्बर सिंह।
2001ः प्रख्यात भारतीय अभिनेता अशोक कुमार।
2018ः भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार और जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के कुलपति मुशीरुल हसन।
2020ः विश्व प्रसिद्ध भारतीय नर्तक और कोरियोग्राफर अस्ताद देबू।
दिवस
विश्व मानवाधिकार दिवस
साभार -हिस

Share this news

About desk

Check Also

ज्ञान के बल पर अगले 25 वर्षों में विश्व का नेतृत्व करेगा भारत : ओम बिरला

नई दिल्ली। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को कहा कि देश ‘आत्मनिर्भर भारत’ की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

Advertisement