Home / Odisha / सत्यजीत मोहंती ने डीजीपी का प्रभार संभाला

सत्यजीत मोहंती ने डीजीपी का प्रभार संभाला

  • पुलिस महानिदेशक को हटाने पर भाजपा व कांग्रेस ने राज्य सरकार पर साधा निशाना

भुवनेश्वर –  राज्य पुलिस के अंतरिम पुलिस महानिदेश के रुप में सत्यजीत मोहंती ने गुरुवार सुबह जिम्मेदारी संभाल ली। कटक स्थित पुलिस मुख्यालय में उन्होंने विधिवत रुप से अपना कार्यभार संभाला। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने उन्हें जो जिम्मेदारी दी है, उसे सुचारु रूप से करेंगे तथा सभी अधिकारियों को लेकर वह कार्य करेंगे। उल्लेखनीय है कि बुधवार रात को नवीन पटनायक सरकार ने 1986 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी अभय को राज्य का पुलिस महानिदशक नियुक्त किया था। वह पुलिस महानिदेशक बीके शर्मा का स्थान लेंगे। उनके कार्यभार संभालने तक इंटेलिजेंस के निदेशक सत्यजीत मोहंती इंचार्ज पुलिस महानिदेशक के रूप में कार्यभार संभालेंगे। शर्मा को अनियमितता के आरोप में पद से हटाकर जांच शुरू की गई है। नवीन सरकार ने यह निर्णय बुधवार रात लिया। अभय फिलहाल केंद्र में डेपुटेशन पर हैं। अभय फिलहाल सरदार बल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी में निदेशक हैं। वह ओडिशा क्राइम ब्रांच के प्रमुख रह चुके हैं। वह सीबीआई में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं । पुलिस महानिदेशक पद से हटाए गए बीके शर्मा इससे पहले अग्निशमन विभाग के प्रमुख थे। उनके खिलाफ उद्योगों को अग्निसुरक्षा से संबंधित प्रमाण पत्र प्रदान के मामले में अनियमितता बरतने का आरोप है। ओडिशा के मुख्य सचिव असित त्रिपाठी, विकास कमिश्नर सुरेश महापात्र और गृह सचिव को जांच का जिम्मा सौंपा गया है।

पुलिस महानिदेशक को हटाने पर भाजपा व कांग्रेस ने राज्य सरकार पर साधा निशाना 

देर रात राज्य पुलिस के महानिदेशक को हटाने के मामले में दोनों विपक्षी पार्टियां भाजपा व कांग्रेस ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है।  भाजपा के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व मंत्री जय नारायण मिश्र ने कहा कि सरकार की किसी भी अधिकारी पर भरोसा नहीं है। सरकार चाह रही है कि अधिकारी उनके कहने के अनुसार कार्य करें। जो अधिकारी उनके कहने के अनुसार कार्य नही कर रहा है उसे वह हटा रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा विधायक तारा प्रसाद वाहिनीपति ने कहा कि जिस समय मुख्यमंत्री ने बीके शर्मा को पुलिस महानिदेशक के रुप में जिम्मेदारी दी तब क्या वह उनके बारे में नहीं जानते थे। यदि सरकार को उनके अनियमितताओं की जानकारी थी, तब सरकार ने उन्हें नियुक्ति क्यों दी थी। इसके लिए राज्य सरकार ही जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि किसी  अधिकारी को रातों रात अपने पद से हटा देना सही नहीं है। राज्य सरकार को लग रहा है कि पुलिस महानिदेशक कठपुतली हैं। जब चाहेंगे कि मारकर निकाल देंगे। उन्होंने कहा कि नवीन पटनायक के लिए यह कोई नयी बात नहीं है। इससे पहले भी उन्होंने अनेक पुलिस महानिदेशकों को इस तरह से बाहर किया है।

Share this news

About desk

Check Also

पांडियन 10 जून तक वापस करें रत्नभंडार की चाभी – हिमंत विश्वशर्मा

कहा-अन्यथा उसे हम ढूंढ निकालेंगे कविसूर्यनगर में भाजपा प्रत्याशी के लिए किया प्रचार भुवनेश्वर। असम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *