Wednesday , December 1 2021
Home / Odisha / नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन में भाजपा ने शुरु की जन जागरण अभियान

नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन में भाजपा ने शुरु की जन जागरण अभियान

  • नागरिकता संशोधन विधेयक किसी की नागरिकता नहीं छिनेगा – कुलस्ते

  • विपक्षी पार्टियां राजनीतिक रोटी सेकने के लिए कर रहे हैं दुष्रचार

भुवनेश्वर । केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विपक्षी पार्टियां भ्रम फैला रहे हैं। नागरिकता संशोधन कानून का भारत के नागरिकों से कुछ भी लेना देना नहीं है। यह कानून केवल तीन पड़ोसी इसलामी देशों से धार्मिक आधार पर उत्पीड़न का शिकार होकर भारत में आने वाले अल्पसंख्य़क शरणार्थियों को नागरिकता देने से संबंध में है। इसलिए इस कानून को लेकर किसी को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। केन्द्रापड़ा जिले के महाकलापड़ा में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जनजागरण अभियान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री कुलस्ते  ने यह बात कही। श्री कुलस्ते ने कहा कि विपक्षी राजनैतिक पार्टियां बिना कारण के अपनी राजनीतिक रोटी सेकने के लिए इस कानून को लेकर दुष्प्रचार कर रहे हैं। इसलिए किसी को इन विपक्षी पार्टियों के दुष्प्रचार में नहीं फंसना चाहिए। उन्होंने कहा धार्मिक आधार पर भारत का विभाजन होने के बाद पाकिस्तान में रह गये अल्पसंख्यक लोगों के सुरक्षा के लिए नेहरु व लियाकत पैक्ट हुआ था। भारत ने इस पैक्ट का पालन किया, लेकिन पाकिस्तान ने इसका बिल्कुल भी पालन नहीं किया और इस कारण पाकिस्तान में अल्पस्ख्यकों की संख्या दो प्रतिशत से भी कम पर पहुंच चुकी है। वहां से अल्पसंख्यकों को भारत आने पर नागरिकता प्रदान करने की बात महात्मा गांधी से लेकर जवाहरलाल नेहरु व राजेन्द्र प्रसाद तक की थी। मोदी सरकार ने इस वादे को पूरा किया है। उन्होंने कहा कि एनआरसी के बारे में अभी तक चर्चा भी नहीं हुई है । इस कारण इस बात को लेकर घबराने की आवश्यकता नहीं है। उल्लेखनीय है कि केन्द्रापड़ा जिले के महाकालपड़ा इलाके में भारी संख्या में बंगलादेश से आये हिन्दू शरणार्थी बसे हैं।श्री कुलस्ते ने महाकालपड़ा के रामनगर व पेटछेला पंचायत जाकर शरणार्थियों से मुलाकात की। इस कार्यक्रम में भाजपा के प्रदेश महामंत्री पृथ्वीराज हरिचंदन, महिला मोर्चा अध्यक्ष श्रीमती प्रभाती परिडा व प्रवक्ता उमाकांत पटनायक व अन्य नेता शामिल थे।

About desk

Check Also

एनजीएमए और कीस-कीट में करार

 आदिवासी आर्ट, क्राफ्ट तथा संस्कृति आदि को मिलेगा संरक्षण और प्रोत्साहन भुवनेश्वर. नई दिल्ली में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram