Friday , August 12 2022
Breaking News
Home / National / 14 दिसंबर को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण

14 दिसंबर को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण

भुवनेश्वर. साल 2020 का आखिरी सूर्यग्रहण 14 दिसंबर को शाम के समय लगने वाला है. यह एक पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा, जो करीब 5 घंटे बाद खत्म होगा. 15 दिनों के अंतराल पर लगने वाला ये दूसरा ग्रहण है, जो मार्गशीर्ष की अमावस्या तिथि को लगेगा. जानकारी के अनुसार, आखिरी सूर्य ग्रहण भारतीय समयानुसार, 14 दिसंबर को शाम 7 बजकर 3 मिनट पर शुरू होगा, जो करीब 5 घंटे बाद रात 12 बजकर 23 मिनट पर खत्म होगा. ये ग्रहण साउथ अफ्रीका, साउथ अमेरिका और प्रशांत महासागर के कुछ हिस्सों में पूर्ण रूप से नजर आएगा. हांलाकि भारत में इसे नहीं देख जा सकेगा. हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार, सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण हमारी राशियों पर प्रभाव डालते हैं, जिसकी वजह से हमारे जीवन में बदलाव होते हैं. ग्रहण के दौरान सूतक काल लग जाता है. इस समय शोर मचाना, खाना-पीना और कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है. लेकिन 14 दिसंबर को संध्याकाल में लगने वाला ये सूर्य ग्रहण भारत में नजर नहीं आएगा. ऐसे में ग्रहण के दौरान किसी भी तरह के कार्यों पर पाबंदी नहीं होगी. सूतक काल के दौरान प्रकृति अपेक्षाकृत ज्यादा संवेदनशील हो जाती है. सूतक काल के दौरान किसी अप्रिय घटना के होने की संभावना ज्यादा रहती है, लेकिन 14 दिसंबर को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा. भारत में नजर ना आने की वजह से इस बार सूतक के नियम नहीं माने जाएंगे. साथ ही ग्रहणकाल के दौरान मांगलिक कार्यों पर भी रोक नहीं लगेगी. सूतक काल मान्य ना होने की वजह से मंदिरों के कपाट बंद नहीं किए जाएंगे और ना ही पूजा-पाठ वर्जित होगी.
ग्रहण काल एक खगोलीय घटना है, लेकिन धार्मिक रूप से शुभ नहीं माना जाता है. ज्योतिष के अनुसार, भले ही ये ग्रहण भारत में नजर ना आए, लेकिन इसका प्रभाव राशियों पर पूर्ण रूप से पड़ेगा. 14 दिसंबर को लगने वाला ये सूर्य ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लग रहा है. इस ग्रहण काल के दौरान इस राशि वालों को बहुत सावधान रहने की जरूरत है. ग्रहण के प्रभाव से इनके मान-सम्मान में कमी आ सकती है और इन लोगों को मानसिक पीड़ा भी उठानी पड़ सकती है. वृश्चिक राशि वालों को इस दौरान सूर्य की आराधना करनी चाहिए. साल के आखिरी सूर्य ग्रहण को देखने की चाह रखने वाले लोग टेलिस्को प की मदद ले सकते हैं. ग्रहण के बुरे प्रभावों से बचने के लिए महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करें. ग्रहणकाल के बाद गंगाजल छिड़क कर घर का शुद्धिकरण कर लें. सूर्य ग्रहण के अगले दिन धनु संक्रांति है, तो आप सूर्य से संबंधित कोई वस्तु दान करें. आप अगले दिन तांबा, गेहूं, गुड़, लाल वस्त्र और तांबे की कोई वस्तु दान कर सकते हैं.

About desk

Check Also

नीतीश के साथ सरकार बनते ही बदले तेजस्वी के सुर

पटना, जनता दल (यू) के साथ मिलकर सरकार बनाने के बाद बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RSS
Follow by Email
Telegram