Tuesday , August 16 2022
Breaking News
Home / Odisha / लघु कविताएँ – शून्य 

लघु कविताएँ – शून्य 

( 1 )
पिघलने लगी रात,
आहिस्ता-आहिस्ता !

झरने लगे कलम से,
स्याही के कतरे !

खो गयी शब्दों की भीड़,
ढालती रात के साथ !

अवशेष रहा शून्य— महाशून्य !!

( 2 )
आँकड़ों का गहरा जाल है,
जोड़-घटाव-गुणा-भाग !

उलझा रहता है जीवन,
इनके ताने-बनाने में !

देखती हूँ दूर तक,
शून्य ही तो है,
शाश्वत सत्य !!

( 3 )
कहो ! कहाँ नहीं शून्य है,
जल-थल-अम्बर में !

पग-पग मायाजाल है,
सत्य छिपा निज अन्तर में !

यही तो है पर्यायवाची शून्य का !!

( 4 )
मैंने उससे कहा,
जब भी जाओ,
थोड़ा-सा शून्य मुझे दे जाना,
और उतना ही वापस ले जाना !

वरना जीवन भर सताएँगे,
हम को ये निष्ठुर आँकड़े !!

( 5 )
शून्य नहीं होता है,
अभिशप्त कभी !

देख लेना बुलाकर,
प्रेम से तुम !

निभाता है साथ,
जीवन भर !!

✍️ पुष्पा सिंघी , कटक

About desk

Check Also

लायंस क्लब ऑफ कटक पर्ल ने आजादी का अमृत महोत्सव विशेष बच्चों के साथ मनाया

कटक। कटक लायनस क्लब ऑफ़ कटक पर्ल ने हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी राष्ट्रप्रेम …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RSS
Follow by Email
Telegram