Thursday , August 18 2022
Breaking News
Home / Odisha / भारी से बारिश से ओडिशा में पांच लोगों की मौत

भारी से बारिश से ओडिशा में पांच लोगों की मौत

  • कई जिलों में नदियां ऊभान पर

भुवनेश्वर. ओडिशा में पिछले छह दिनों में बारिश से संबंधित घटनाओं में पांच लोगों की मौत हुई है. विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) कार्यालय से आज जारी एक आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि राज्य में मानसून की बारिश के कारण इस साल पांच लोगों ने अपनी जान गंवाई है. बलांगीर जिले के पाटनागढ़ ब्लॉक के अंतर्गत घुंगुट्टीपल्ली गाँव के दीपा बरलेंदिया, मयूरभंज जिले के कुलियाना ब्लॉक के कुचेही गाँव की बसंती मुखी और देवगढ़ जिले के रियामल ब्लॉक के अंतर्गत देहुरपल्ली गाँव के गोपाल गिरि की मृत्यु हुई है.

इसके अलावा, मयूरभंज जिले के मोरादा ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले गोंडगागली गाँव के बुद्धेश्वर माझी और मंगल मरांडी की मौत एक नदी में बह जाने की वजह से हो गई. जिला कलेक्टरों को इस महीने की भारी वर्षा के कारण क्षति का आकलन रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देशित किया गया है. प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि कलेक्टर्स से रिपोर्ट मिलने के बाद प्रभावित परिवारों को आवश्यक सहायता प्रदान की जाएगी.

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने गुरुवार को पांच जिलों के लिए लाल चेतावनी, आठ जिलों के लिए नारंगी चेतावनी और सात जिलों के लिए एक पीले रंग की चेतावनी जारी की थी. हालांकि, आज सुबह 8.30 बजे तक पिछले 24 घंटों में अधिकांश जिलों में सामान्य बारिश हुई थी, जबकि कुछ जिलों में हल्की बारिश हुई थी. इस अवधि के दौरान राज्य में औसतन 160 मिलीमीटर बारिश हुई है.

मालकानगिरि जिले के पाडिया में 112.3 मिमी और नवरंगपुर जिले के कोसागुमुड़ा में 126.2 मिमी बारिश दर्ज की गई है. इसके अलावा, 22 ब्लॉकों में 50 मिमी वर्षा से ऊपर और 59 ब्लॉकों में 20-50 मिमी के बीच वर्षा दर्ज की गई है. बैथिनी नदी का जल स्तर अखुपाड़ा में खतरे के स्तर से थोड़ा ऊपर बह रहा है. बालेश्वर जिले में बस्ता ब्लॉक के तहत मथानी में जलका नदी खतरे के स्तर से ऊपर बह रही है. यह स्थिर है. इसके कारण बाढ़ की भी कोई आशंका नहीं है. नवरंगपुर जिले में बारिश के कारण कोरापुट जिले के कोटपद ब्लॉक के अंतर्गत सुरली में राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुल पर बारिश का पानी बह रहा है.

बोरीगुम्मा और जगदलपुर के बीच सड़क संचार गंभीर बना हुआ है. पुलिस, अग्निशमन सेवा, ओडीआरएएफ के कर्मचारी और ब्लॉक और तहसील के अधिकारी वहां तैनात किए गए हैं और वे स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. इस जिले में बारिश के कारण 120 से अधिक घरों और एक पशु शेड को नुकसान पहुंचा है. मालकानगिरि में पिछले 24 घंटों में 62.5 मिमी बारिश हुई है, जिसके परिणामस्वरूप कंगारुकोंडा, कन्याश्रम और कोरुकोंडा में पुलों के ऊपर बारिश का पानी बह रहा है. इसके अलावा मैथिली ब्लॉक में पंगम पुल और सबेरी पुल पर बाढ़ का पानी पुल स्तर से नीचे बह रहा है, लेकिन मोटू में मौगी बिंदु पर सिलरू नदी में जल स्तर बढ़ रहा है.

गुरुवार रात मैथिली ब्लॉक के 169 और कालीमेला ब्लॉक के 81 व्यक्तियों को सुरक्षित आश्रयों में स्थानांतरित किया गया. झारसुगुड़ा जिले में गुरुवार रात को हुई मध्यम बारिश के कारण लखनपुर में चार परिवारों के कच्चे मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं. प्रभावित परिवारों को पॉलिथीन शीट उपलब्ध कराई गई है. खुर्दा जिले में जटनी ब्लॉक के अंतर्गत बेनापंजुरी पंचायत के कुछ खेत बारिश के पानी के कारण डूब गये हैं. इसके अलावा, खुर्दा ब्लॉक के ओबेरसिंग पंचायत के हीरमल गांव में कुछ खेतों में जल जमाव की वजह से मलदूनी नदी में बारिश का पानी बहने के कारण जलभराव की सूचना मिली है.

मयूरभंज जिले में बडसाही प्रखंड में गंगाहर नदी में जल स्तर घट रहा है. पिछले जून से आज तक राज्य में 1.3% अधिक वर्षा हुई है. राज्य में सामान्य से 9.3% अधिक बारिश, जुलाई में 34.9% कम और अगस्त में 45.2% अधिक बारिश हुई है. अगस्त में 17 जिलों में सामान्य से 19% अधिक वर्षा हुई है और 12 जिलों में -19% से + 19% वर्षा हुई है. इनमें से छह जिलों में 105-176% के बीच अतिरिक्त वर्षा हुई है. केवल नुआपाड़ा जिले में 31.9% कम वर्षा हुई है.

About desk

Check Also

बाढ़ प्रभावितों में तत्काल राहत वितरण के निर्देश

 मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने निरीक्षण के बाद तत्काल की घोषणा भुवनेश्वर। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RSS
Follow by Email
Telegram