Sunday , January 29 2023
Breaking News
Home / Odisha / भद्रक में कोरोना का एक पाजिटिव मरीज मिला

भद्रक में कोरोना का एक पाजिटिव मरीज मिला

  • पश्चिम बंगाल से लौटकर आया है घर

  • मरीजों की संख्या 90 हुई

भुवनेश्वर. ओडिशा में भी कोरोना वायरस ने तेजी से अपना पैर पसारना शुरू कर दिया है. पश्चिम बंगाल सरकार की लापरवाही का नतीजा है कि ओडिशा में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या तेजी बढ़ने लगी है.

आज सुबह भद्रक जिले में एक व्यक्ति की रिपोर्ट पाजिटिव आयी है. इसके साथ ही ओडिशा में कोरोना पाजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 90 हो गयी है. यह जानकारी राज्य सरकार के सूचना व जनसंपर्क विभाग ने ट्विट कर दी है. बताया जाता है कि 40 साल का यह व्यक्ति भी पश्चिम बंगाल से ही आया है. प्रशासन इसके संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान करने में जुटा है. सरकार लगातार लोगों से आग्रह कर रही है कि यदि आप बाहरी राज्यों से आये हुए हैं तो इसकी जानकारी स्थानीय सरपंच या सरकार की हेल्पलाइन पर दें, ताकि कोरोना वायरस के विस्तार को रोका जा सके.

इधर, सीमा सील होने के बावजूद लोगों का पड़ोसी राज्यों से आना नहीं रूक रहा है. गंजाम जिला में लोग आंध्रप्रदेश से साइकिल से चले आये हैं, जबकि भद्रक में कल कुछ स्थानीय लोगों ने एक कंटेनर में लोगों लाते हुए पकड़ा है.

इधर, राजधानी में फिलहाल कोरोना के नये मामले नहीं हैं. इससे बोमीखाल, सत्यनगर और सूर्यनगर को कांटेंमेंट जोन से मुक्ति मिल गयी है, जबकि लाकडाउन के प्रावधान लागू रहेंगे.

पश्चिम बंगाल से लोगों को अवैध रूप से ला रहे ट्रक को गांव वालों ने पकड़ा

सीमाओं पर कड़ी निगरानी के बावजूद ओडिशा में अन्य राज्यों से लोगों के घुसने की रिपोर्टों ने लॉकडाउन व्यवस्था पर सवाल उठा दिया है. सूत्रों के अनुसार, पश्चिम बंगाल से लोगों को अवैध रूप से एक ट्रक कंटेनर भुवनेश्वर लाया जा रहा था, तभी बालेश्वर-भद्रक मार्ग पर कुछ स्थानीय लोगों ने भद्रक जिले में एनएच-16 पर रानीताल में वाहन को रोका. बाद में स्थानीय लोगों ने पाया कि वाहन में लगभग 10 से 11 लोग थे.

जब ग्रामीणों ने इसका वीरोघ किया, लेकिन कुछ मौके से भागने में कामयाब रहे. इसके तुरंत बाद स्थानीय लोगों ने भद्रक ग्रामीण पुलिस को फोन किया और घटना की जानकारी दी. इस बीच पंचायती राज और आवास और शहरी ग्रामीण विकास मंत्री प्रताप जेना ने आज जानकारी दी कि हालांकि सभी सीमाओं पर सतर्कता बरती गई है, लेकिन पश्चिम बंगाल सीमा को पूरी तरह से बंद करना संभव नहीं है, क्योंकि यह बहुत लंबा है. उन्होंने कहा कि पांच सदस्यों वाली सरपंच की अध्यक्षता में एक ग्राम पंचायत स्तर की समिति का गठन दूसरे राज्यों से लौटने वाले लोगों पर नज़र रखने के लिए किया जाएगा. उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री निरंजन पुजारी की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एक अंतर-मंत्रालयी बैठक हुई.

About desk

Check Also

ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नवकिशोर दास ने इलाज के दौरान दम तोड़ा

झारसुगुड़ा जिले के ब्रजराजनगर में एक एएसआई ने सीने में मारी थी गोली भुवनेश्वर में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram