Tuesday , January 31 2023
Breaking News
Home / Odisha / गंजाम में कोरोना से निपटने के लिए तैयारियां तेज

गंजाम में कोरोना से निपटने के लिए तैयारियां तेज

  • बैंकों के खुलने-बंद होने के समय तय

  • 22 अप्रैल से नये नियम होंगे लागू

  • 24 वार्डों में 545 परिवारों में से 2342 की थर्मल स्क्रीनिंग

  • सांसद प्रमिला विसोई ने आंगनबाड़ी केंद्र में अंडों के वितरण का निरीक्षण किया

शिवराम चौधरी, ब्रह्मपुर

गंजाम में कोरोना वायरस के विस्तार पर रोक लगाने के लिए जिला प्रशासन ने तैयारियों को तेज कर दी हैं. सामाजिक दूराव का पालन सुनिश्चित करने के लिए बैंकों के लिए खुलने और बंद करने का समय तय किया गया है. जिलाधिकारी विजय अमृत कुलंगे क् आदेशानुसार, सामाजिक दूरियों की कड़ाई से पालन करने और कोरोना के लिए निर्धारित नियमों के संदर्भ में ग्राहकों को गर्मी की गर्मी से बचाने के लिए बैंक का संचालन प्रतिदिन सुबह सात से दोपहर दो बजे तक किया जायेगा, लेकिन ग्राहक सेवा दोपहर एक बजे तक उपलब्ध रहेगी. इसके अलावा, बैंक यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी ग्राहक सामाजिक रूप से जिम्मेदार हों. ग्राहकों के लिए मास्क अनिवार्य है. यह नियम गंजाम जिले के सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों, निजी बैंकों, ग्राम्य बैंकों और सहकारी बैंकों पर लागू होगा. 22 अप्रैल से सभी बैंक इस समय के अनुसार काम करेंगे. एक बयान में कहा गया है कि यदि किसी भी बैंक को कोरोना के नियमों का उल्लंघन करता पाया गया, तो कार्रवाई की जायेगी.

इधर, नगर निगम के तहत आने वाले 40 वार्डों में रहने वाले सभी घर के सदस्यों की थर्मल स्क्रीनिंग सोमवार को को भी की गयी. मंगलवार शाम तक निगम के 24 वार्डों में 545 परिवारों के 2,342 सदस्यों के बुखार की जांच की गयी. निगम के चक्रवर्ती सिंह राठौड़ की प्रत्यक्ष देखरेख में 10 टीमों में डॉक्टरों की उपस्थिति में स्क्रीनिंग शुरू की गई.

इधर, सांसद प्रमिला विसोई ने आंगनबाड़ी केंद्रों में अंडों के वितरण का निरीक्षण किया. जिला प्रशासन गंजाम जिले में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के अभिनव प्रयासों के कारण जिले में तालाबंदी के कारण बच्चों, प्रसूति और गर्भवती महिलाओं को अंडे की आपूर्ति के तहत सहायता समूहों, आंगनबाड़ी केंद्रों में बिना किसी अतिरिक्त लागत और सरकारी दर से कम कीमत पर अंडे की आपूर्ति करने का काम सौंपा गया है. सरकार के बयान के अनुसार, आंगनबाड़ी केंद्र में बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए एक महीने में 12 अंडे और 3 से 4 साल के बच्चों के लिए महीने में 20 अंडे दिए जाने की उम्मीद है.

इसी तरह,  मंगलवार को असिका ब्लॉक के तहत चर्मारिया गांव में अंडे वितरित करते समय  सांसद प्रमिला विसोई ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और लाभार्थियों से पूछा कि क्या लाभार्थियों को अंडे ठीक से मिल रहे हैं. आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रश्मिता गौड़ा ने कहा कि जिला आयुक्त के फैसले का स्वागत है, क्योंकि जब हम ऑटो में गए और शहर में अंडे लाए, तो कई समस्याएं थीं. ऑटो किराए और बहुत सारे अंडे बर्बाद हो गए. हमें स्वयं सहायता समूहों द्वारा दान किए जाने वाले अंडे के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है. दूसरी ओर सांसद प्रमिला ने जिला आयुक्त के पायलट प्रोजेक्ट की प्रशंसा की. यह महिला शक्ति समूहों को अधिक सक्षम और आत्मनिर्भर बनाएगा. उन्होंने कहा कि गंजाम जिला समूह के माध्यम से अंडा वितरण कार्यक्रम अन्य जिलों के लिए एक उदाहरण होगा.

About desk

Check Also

भाजपा ने अपना आंदोलन को स्थगित करने की घोषणा की

अब 2 से 4 फरवरी को होगा आंदोलन भुवनेश्वर। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram