Wednesday , November 30 2022
Breaking News
Home / Odisha / स्मितारानी बिश्वाल के परिवार के लोगों ने गांव छोड़, घर के बाहर सुरक्षा में खड़ी है पुलिस

स्मितारानी बिश्वाल के परिवार के लोगों ने गांव छोड़, घर के बाहर सुरक्षा में खड़ी है पुलिस

  •  18 दिन बीत जाने के बाद भी कार्रवाई नहीं

  • भाजपा महिला मोर्चा का सभी जिलाधिकारी कार्यालय के सामने  पांच को धरना

भुवनेश्वर –  बहुचर्चित जाजपुर जिले के हरिदासपुर पंचायत में  काम करने वाली कर्मचारी मृतक स्मितारानी बिश्वाल के परिवार के लोगों ने उनका गांव छोड़ दिया है। वह कही चले गये हैं । दो दिन पहले ही उनके परिवार के लोगों ने कहा था कि वे अब गांव में अपने आप को सुरक्षित नहीं मान रहे हैं और गांव छोड़ देंगे । बताया जा रहा है कि वे अपने किसी रिश्तेदार के यहां चले गये हैं । उधर, उनकी सुरक्षा के लिए घर के बाहर पुलिस है । स्मितारानी के पिता सदानंद ने कहा था कि उनकी बेटी की हत्या किये जाने के बाद वह व उनके परिवार के अन्य सदस्य अपने आप को सुरक्षित नहीं मान रहे हैं । उन्होंने कहा था कि उनके बेटे बाहर रहे हैं । इसलिए उनके पास रहने के लिए वह जाएंगे । प्रशासन से उन्हें न्याय मिलता दिख नहीं रहा है, क्योंकि इस मामले में राजनैतिक लोगों का हाथ है इस कारण थाना पुलिस भी कुछ नहीं कर रही है। उल्लेखनीय है कि प्रतिपक्ष के नेता  प्रदीप्त नायक ने शनिवार को कहा था कि मामले की जांच सही दिशा में नहीं जा रही है । मामले में सत्तारुढ़ पार्टी के लोगों के शामिल होने के कारण पुलिस की जांच दिशा हीन हो चुकी है और पीड़िता के परिवार को न्याय मिलने से बंचित होना पड़ रहा है । इस कारण मामले की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो से करायी जाए । यदि नहीं किया जाता तो आगामी विधानसभा सत्र  में इस मामले को भाजपा विधायक जोर शोर से उठायेंगे ।

इधर, भाजपा महिला मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष प्रभाति परिडा ने पार्टी कार्यालय में  आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि स्मितारानी हत्या मामले को 18 दिन बीत जाने के बाद भी कार्रवाई नहीं की जा रही है । मामले की सीबीआई जांच के मांग के बावजूद भी सरकार चुप्प बैठी है । इसी तरह केन्द्रापडा क्रेडिट को-आपरेटिव के अध्यक्ष  प्रमोद साहू द्वारा वहां कार्यरत महिला को यौन उत्पीडन देने के मामले में भी कार्रवाई नहीं हो रही है । महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अत्याचार पर सरकार चुप्प बैठी है । इस कारण भाजपा महिला मोर्चा आगामी पांच नवंबर को राज्य के समस्त जिला मुख्यालयों पर जिलाधिकारी कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन करेगी । उन्होंने बताया कि जाजपुर के हरिदासपुर मामले में पुलिस सत्तारुढ़ पार्टी के लोगों के शामिल होने के कारण कार्रवाई नहीं कर रही है। कार्रवाई करना तो दूर पुलिस म़ृतक महिला का चरित्र हनन करने में जुटी है । राज्य का महिला  आयोग भी अपने कर्तब्य करने के बजाय सत्तारुढ़ पार्टी के लोगों को बचाने में जुटी है । इस कारण भाजपा तथा पीड़िता के परिवार के लोग मामले को सीबीआई से जांच कराने की मांग कर रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार इससे बच रही है । उन्होंने कहा कि केन्द्रापड़ा मामले में भी पीड़ित महिला के शिकायत को पुलिस रख नहीं रही है ।  नवीन पटनायक महिलाओं की सम्मान व पारदर्शी प्रशासन की बात कर रहे हैं, लेकिन उनके सारे आश्वासन महिला सुरक्षा मामले में विफल हुई है। इस कारण भाजपा महिला मोर्चा का सभी जिलाधिकारी कार्यालय के सामने  आगामी पांच नवंबर को धरना देगी ।

About desk

Check Also

बालेश्वर में जैन मुनियों का भव्य स्वागत

संतों का स्वागत त्याग, संयम व सदाचार का स्वागत है- मुनि जिनेश कुमार बालेश्वर। आचार्य …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram