Sunday , December 5 2021
Breaking News
Home / Odisha / ओडिशा में कोरोने के तीसरे मरीज ने बढ़ाई चिंता

ओडिशा में कोरोने के तीसरे मरीज ने बढ़ाई चिंता

  •  वायरस के तीसरे चरण में प्रवेश का अनुमान

  •  मरीज की नहीं है कोई विदेश ट्रैवेल की हिस्ट्री

  •  समाज में वायरस के फैलने का अनुमान

  •  कर अस्पताल में लोगों को नहीं जाने का निर्देश

  •  अस्पताल के सभी कर्मचारियों को आइसोलेशन में रखने को कहा गया

 

भुवनेश्वर. ओडिशा में कोरोना पाजिटिव का एक और मामला सामने आया है. गुरुवार रात को परीक्षण के बाद एक 60 वर्षीय व्यक्ति का नमूना पाजिटिव आया है. राज्य के स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग ने ट्विट कर यह जानकारी दी. इसके साथ ही राज्य में कोरोना पाजिटिव के कुल तीन मामले सामने आये हैं. विभाग की ओर से कहा गया है कि सभी तीन मामले भुवनेश्वर से हैं. इस तीसरे मामले के प्रकाश में आने के साथ ही सरकार की चिंताएं बढ़ गयी हैं, क्योंकि इस मरीज की विदेश ट्रैवेल की हिस्ट्री नहीं है. इस कारण अनुमान लगाया जा रहा है कि कोरोना वायरस ओडिशा में तीसरे चरण में पहुंच गया है और अब यह समाज में फैल चुका है. विभाग की ओर से कहा गया है कि इस तीसरे मामले के बारे में पता चलने के बाद कंटाक्ट ट्रेसिंग का काम राज्य सरकार ने शुरू कर दिया है, ताकि उससे और किसी को कोरोना का संक्रमण फैलने के बारे में पता लगाया जा सके. साथ ही राज्य सरकार ने बताया कि इस रोगी ने इससे पहले राजधानी स्थित कर क्लिनिक अस्पताल में अपना इलाज कराया था. इसलिए सरकार ने लोगों से कहा है कि आप कर क्लिनिक में न जाएं. स्वास्थ्य विभाग की ओर से कहा गया है कि बार-बार एडवाइजरी जारी करने के बाद भी देखा जा रहा है कि निजी अस्पताल इसे मान नहीं रहे हैं. राज्य सरकार फिर से कह रही है कि एडवाइजरी व रेगुलेशन का कड़ाई से पालन हो, अन्यथा उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. साथ ही विभाग ने कर क्लिनिक के सभी कर्मचारियों को आइसोलेशन में रखने का निर्देश दिया है.

दिल्ली व रिवाड़ी से लौटा था तीसरा कोरोना पाजिटिव मरीज
राज्य में 60 वर्षीय तीसरा कोरोना पाजिटिव मरीज की ट्रैवेल हिस्ट्री के बारे में जो जानकारी मिली है उसके अनुसार वह विदेश से नहीं, बल्कि दिल्ली व हरियाणा के रिवाड़ी से लौटा है. राज्य सरकार के प्रवक्ता सुब्रत बाग्ची ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कोरोना पीड़ित व्यक्ति सात मार्च को दिल्ली गया था और वहां से हरियाणा के रिवाड़ी भी गया था. दस मार्च को वह दिल्ली से इंडिगो विमान से भुवनेश्वर लौटे था. उनके साथ उनकी पत्नी व बेटी भी थी. इस कारण उनकी पत्नी व बेटी को आइसोलेशन में रहने के लिए कहा गया है. बाग्ची ने बताया कि उनकी स्वास्थ्य खराब होने के बाद पहले उन्होंने 16 मार्च को विधानसभा की डिसपेंशनरी में दिखाया था. इसके बाद वह 21 मार्च को यूनिट–तीन स्थित कर क्लिनिक में ओपीडी में दिखाया व 23 को वह इसी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती हो गये. 24 मार्च को वहां से डिस्चार्ज होने के बाद 25 को वह भुवनेश्वर के कैपिटल अस्पताल आये. उसके बाद उनका नमूना परीक्षण के लिए भेजा गया और रिपोर्ट निगेटिव आयी है. उन्होंने कहा कि उनके संपर्क मे आये लोगों के साथ संपर्क स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है.
15 मार्च को सामने आया पहला मामला
इससे पहले 15 मार्च को ओडिशा में पहला मामला सामने आया था, जब इटली से लौटे एक 33 वर्षीय युवक में यह वायरस पाया गया था. इसके बाद 19 मार्च को यूके से लौटा एक युवक में भी यह वायरस पाया गया था.

About desk

Check Also

उप्रमास कटक शाखा ने अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस मनाया, विकलांगों की ओर बढ़ाया मदद का हाथ

कटक. एससीबी मेडिकल कॉलेज के आंचलिक स्पाइनल इंज्यूरी सेंटर में शु्क्रवार को अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram