Thursday , December 2 2021
Breaking News
Home / Odisha / काबिले तरीफ है संबलपुर वासियों का प्रयास

काबिले तरीफ है संबलपुर वासियों का प्रयास

  •  कोरोना से निपटान हेतु संबलपुर शहर एकजूट

  •  गली-मुहल्ले में व्यापक सचेतनता

संबलपुर। कोरोना वायरस की भयावता को लेकर फिलहाल पूरा विश्व चिंतित है। किन्तु संबलपुर शहर के लोग जिस तरह कोरोना का मुकाबला कर रहे हैं वह काबिले तारीफ है। यहांपर जिला प्रशासन के प्रयास भी प्रशंसनीय है। प्रशासनिक प्रयास पर संबलपुर शहर के रिहायशी इलाके के अलावा गली मुहल्लों में इस तरह सचेतनता की अलख जगी है कि लोग अपने आप को कोरोना से सुरक्षित रख ही रहे हैं, आसपास के लोगों को भी कोरोना से बचाव के उपाय बता रहे हैं। जिला प्रशासन ने पहले ही चरण में शहर के सभी मॉल एवं बड़े-बड़े व्यापारिक संस्थानों को बंद कराकर संबलपुर के लोगों को सुरक्षित रखने का नायाब प्रयास आरंभ किया। किन्तु अब लोग कोरोना को लेकर इतने सचेतन हो गए हैं कि वे खुदबुखद अब इस महामारी से संग्राम करना आरंभ कर दिया है। फिलहाल आफ शहर के जिस गली एवं मुहल्ले में जाएंगे, आपकों लोग खुदबखुद इस वायरस से बचाव के तरीके बताने लगेंगे। इसी कड़ी में शहर के रामजीगुड़ी इलाके में स्थिति बंधपाड़ा स्लम बस्ती की महिलाएं भी कोरोना से दूर रहने हेतु हरसंभव उपाय कर रही हैं। महिलाओं ने एक दूसरे से दूरी बनाना आरंभ किया है। साथ ही बारंबार हाथ धोने की प्रक्रिया को भी चालू रखा गया है। वहां के कुछ महिलाओं ने बताया कि कोरोना ने फिलहाल पूरे विश्व को अपने आगोश में ले रखा है। ओडिशा में भी अबतक चार कोरोना मरीजों की पहचान हो चूकी हैं। ऐसे में इस बीमारी से निजात पाने के लिए खुद भी सचेत रहेेंगे और दूसरो को भी सचेत करेंगे। बंधपाड़ा की महिलाओं का जोश देखकर अन्य लोग भी प्रेरित हो रहे हैं तथा अपने आसपास कोरोना पर नियंत्रण हेतु अलख जगाना आंरभ कर दिया है। इससे साफ है कि संबलप़ुर में कोरोना अपना कहर बरपा पाएगा, इसकी संभावना कम लगती है। इस कार्य में शहर के समाजसेवी संगठनो की भूमिका की भी सराहना करनी होगी। जिन्होंने कोरोना पर नियंत्रण हेतु अपना दिनरात लगाया हुआ है। फिलहाल शहर में एक भी कोरोना मरीज की पहचान नहीं हुई है। यदि प्रयास ऐसे ही जारी रहेगा तो आनेवाले कल भी सुखद होगा, इसकी पूरी संभावना बनती नजर आ रही है।

About desk

Check Also

कंधमाल में माओवादियों ने लोगों से जंगल में नहीं जाने को कहा

 माओवादी पोस्टर मिलने दहशत, कहा-जगंलों में लगायी गयी बारूदी सुरंग फुलबाणी. कंधमाल जिले के कई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram