Thursday , July 7 2022
Breaking News
Home / Odisha / यस बैंक संकट से राज्य सरकार कठघरे में, श्रीमंदिर की धनराशि को लेकर सवाल उठे

यस बैंक संकट से राज्य सरकार कठघरे में, श्रीमंदिर की धनराशि को लेकर सवाल उठे

  • बैंक में भगवान श्रीजगन्नाथ का पैसा सुरक्षित है – विधि मंत्री

भुवनेश्वर- यस बैंक से जुड़े संकट के सामने आने के बाद विपक्ष के साथ-साथ सत्तापक्ष के नेता भी पुरी के श्रीमंदिर प्रशासन द्वारा धनराशि को इस बैंक में फिक्सड डिपोजिट रखने को लेकर सवाल उठाया है। इन नेताओं का कहना है कि भगवान जगन्नाथ से जुड़े 592 करोड़ रुपये की  धनराशि की सुरक्षा किस ढंग से होगी, इसको लेकर श्रीमंदिर प्रशासन को तत्पर रहना चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा विधायक सुरेश राउतराय ने इस बारे में पूछे गये  सवाल के उत्तर में कहा कि श्रीमंदिर प्रशासन द्वारा धनराशि को सरकारी बैंक में रखने के स्थान पर निजी बैंक में क्यों रखा, इसे लेकर संदेह उत्पन्न  हो रहा है। इसके पीछे उद्देश्य क्या था इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि महाप्रभु श्रीजगन्नाथजी  पैसे को लेकर किसी प्रकार का हेरफेर होने पर कांग्रेस इसके खिलाफ   आंदोलन करेगी। केवल विपक्ष ही नहीं सत्तापक्ष के नेता तथा पूर्व मंत्री तथा पुरी के पूर्व विधायक महेश्वर मोहंती ने भी श्रीमंदिर प्रशासन को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि तत्कालीन श्रीमंदिर प्रशासन द्वारा भगवान जगन्नाथ के धन को सरकारी बैंक के बजाय निजी बैंक में रखने का निर्णय गलत था। यह नहीं होना चाहिए था। उन्होंने श्रीमंदिर प्रशासन को परामर्श दिया कि वह भगवान श्रीजगन्नाथ की धनराशि को यस बैंक से कैसे निकाला जाए, इस बारे में  रिजर्व बैंक आफ इंडिया से बातचीत करे। इधर, राज्य के विधि मंत्री  प्रताप जेना ने कहा कि भगवान जगन्नाथ के पैसा पूर्ण रुप से सुरक्षित है और इसके लिए किसी को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि यस बैंक के फिक्सड डिपोजिट को लेकर किसी प्रकार का खतरा नहीं है। श्रीमंदिर के कुल दो फिक्सड डिपोजिट यस बैंक में हैं तथा इसी माह 16 व 29 मार्च को ये मेच्योर होने वाले थे, लेकिन इससे पूर्व रिजर्व बैंक आफ इंडिया की ओर से बैंक के प्रबंधन में हस्तक्षेप कर केवल 50 हजार रुपये प्रति माह निकाले जाने की बात कही है।

About desk

Check Also

इकोर के 15 प्रमुख स्टेशन होंगे कैमरे की नजर में कैद

 कार्य जनवरी 2023 तक पूरा होने की संभावना है।  रेलवे में नई तकनीक को तेजी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RSS
Follow by Email
Telegram