Thursday , October 21 2021
Breaking News
Home / Odisha / सोशल मीडिया का सकारात्मक प्रयोग का आह्वान,  अच्छाई सिर्फ दिखाएं नहीं, अंदर से करें आत्मसात – राज्यपाल

सोशल मीडिया का सकारात्मक प्रयोग का आह्वान,  अच्छाई सिर्फ दिखाएं नहीं, अंदर से करें आत्मसात – राज्यपाल

  •  कहा-राजनीति के सामने आध्यामिक शब्द जोड़ना जरूरी

  •  बुजुर्गों को गोद लेने की दी सलाह

  • मंत्री प्रताप षड़ंगी ने कहा-अभिभावकों को देखने से मिलती है ऊर्जा

  •  समाजहित में सोशल मीडिया का करें उपयोग

भुवनेश्वर. राजधानी में आयोजित सोशल मीडिया के महासम्मेलन में सभी वक्ताओं ने सोशल मीडिया के सकारात्म प्रयोग का आह्वान किया. राज्यपाल प्रोफेसर गणेशीलाल ने विभिन्न उदाहरणों को पेश करते हुए कहा कि अच्छाई को सिर्फ दिखाएं नहीं, बल्कि अपने अंदर से आत्मसात करें. अंदर की अच्छाई स्वतः बुराईयों को पराजय कर देगी और अच्छे कार्यों के लिए प्रोत्साहित करेगी. उन्होंने इंडिया वन फाउंडेशन की तरफ से प्रस्तावित वृद्धा आश्रम को केंद्र कर यह बातें कहीं. महासम्मेलन में उन्होंने कहा कि लोगों को सिर्फ बच्चों को ही गोद नहीं लेना चाहिए, अपितु आज समय आ गया है, जब बुजुर्गों को गोद लेने की जरूरत है, क्योंकि वृद्धा आश्रम होने का मतलब यह नहीं है कि उनको पराश्रय की जरूरत पड़े. उन्होंने कहा कि लोगों को थ्योरी और प्रैक्टिल की उलझन से निकलने की जरूरत है. साथ ही उन्होंने सोशल मीडिया के राजनीति प्रयोग को लेकर भी प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि आज समय आ गया है, जब सोशल मीडिया का प्रयोग विवेकपूर्ण तरीके से की जाये. उन्होंने राजनीति से गंदगी दूर करने की वकालत भी की ताकि रामराज का सपना साकार हो सके.

उन्होंने कहा कि इसके लिए राजनीति से पहले आध्यात्मिक शब्द जोड़ने की जरूरत है. साथ ही उन्होंने कहा कि राजनीति से प्रोटोकॉल को हटाने की जरूरत है. उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि अगर सीएम आवास आम आदमी का आवास बन जाये तो आम आदमी की पहुंच बढ़ेगी और रामराज की परिकल्पना साकार होगी. इन दौरान राज्यपाल ने पक्षियों का उदाहरण पेश करते हुए दिव्यता और अच्छाई को समझाया. उन्होंने कहा कि हिम्मत से अंकुर अंकुरित होता. अगर है तो कोई भी आपको अंकुरित होने से नहीं रोक सकता है. इधर, एमएसएमई, पशुपालन, डेयरी एवं मत्स्य पालन केंद्रीय राज्य मंत्री प्रताप षड़ंगी ने कहा कि किसी भी वस्तु की उपयोगिता उसके प्रयोगकर्ता का विवेक तय करता है. उन्होंने कई उदाहरणों को पेश करते हुए कहा कि यदि सोशल मीडिया का उपयोग सही विवेक से किया जायेगा, तो परिणाम सकारात्मक और प्रभावशाली होंगे. यदि यही प्रयोग दुर्भावनापूर्ण विवेक के साथ किया जाये, तो परिणाम नकारात्मक ही दिखेंगे. उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को कलम की शक्ति का प्रयोग समाजहित में करना चाहिए. उन्होंने कहा कि देश में सबको हर तरह की स्वतंत्रता है, लेकिन स्वतंत्रता के साथ-साथ दायित्वबोध भी जरूरी है. स्वतंत्रता दायित्यों से मुक्ति नहीं दिलाती है. इसलिए सोशल मीडिया का प्रयोग भी दायित्बोध के साथ सकारात्मक रूप में किया जाना चाहिए. इस दौरान इंडिया वन फाउंडेशन की वेबसाइट का लोकार्पण भी किया गया.

अच्छे कार्यों में हो सोशल मीडिया का प्रयोग – विजय खंडेलवाल
इस मौके पर समाजसेवी और उद्योगपति विजय खंडेलवाल ने भी सोशल मीडिया के सकारात्म प्रयोग पर जोर दिया तथा इसका प्रयोग अच्छे कामों के प्रचार-प्रसार में करने को कहा. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ मुहिम को चलाया. यह अभियान आज काफी हद तक सफल रहा है. इसके प्रचार-प्रसार में भी सोशल मीडिया का प्रयोग किया गया था. उन्होंने कहा कि जिंदगी में शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व है और विदेशों में इस पर जोर दिया जा रहा है. देश में भी न्यूनतम शिक्षा सबको अनिर्वाय रूप से मिलनी चाहिए. इसके लिए उन्होंने विदेशों में चलायी जा रही कई योजनाओं को भी पेश किया.
कार्यक्रम के समापन में आयोजन पवन भूत और शुभम भूत ने सबके प्रति आभार ज्ञापित किया. उन्होंने उम्मीद जतायी कि सोशल मीडिया के सही प्रयोग की दिशा में प्रोत्साहित करने में यह कार्यक्रम अपनी भूमिका निर्वहन करेगा.

 

उल्लेखनीय कार्यों के लिए कई विभुतियां सम्मनित
सोशल मीडिया के महासम्मेलन में उल्लेखनीय कार्यों के लिए जिंदगी फाउंडेशन के संस्थापक डॉ अजय बहादुर सिंह, उद्योगपति और समाजसेवी विजय खंडेलवाल, सुनील मुरारका, मोहित पोद्दार, प्रकाश बेताला, नवभारत के संपादक हेमन्त कुमार तिवारी, नम्रता चड्ढा, रंजन कुमार साहू, शुभेंदु दास, प्रदीप दास, किशोर द्विवेदी, हसन अकबर अली, प्रशांत साहू, राहुल जेना. लक्ष्मीनारायण अग्रवाल आदि को सम्मानित किया गया.

 

About desk

Check Also

ममिता मेहेर हत्या मामला- मुख्यमंत्री दोषियों के खिलाफ कडी कार्रवाई करें – धर्मेन्द्र प्रधान

भुवनेश्वर. कलाहांडी जिले के महालिंग में स्कूल के शिक्षिका का अपहरण व हत्या मामले के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram