Wednesday , September 28 2022
Breaking News
Home / Odisha / ओडिशा में और नौ भ्रष्ट अफसरों पर चला अनुशासन का डंडा

ओडिशा में और नौ भ्रष्ट अफसरों पर चला अनुशासन का डंडा

  •  राज्य सरकार ने पांच अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी

  •  दो को सेवा से किया बर्खास्त

  •  दो की पेंशन स्थायी रूप से रोकी गई

  •  ओडिशा में अब तक 173 अधिकारियों गिर चुकी है गाज

भुवनेश्वर। ओडिशा में भ्रष्टाचार के आरोप में दोषी पाये गये नौ अफसरों पर सरकार ने अनुशासन का डंडा चलाया है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अक्षम और भ्रष्ट अधिकारियों के लिए शून्य सहनशीलता की नीति के अनुरूप, राज्य सरकार ने आज पांच अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी, जबकि दो को सेवा से बर्खास्त कर दिया। अन्य दो की पेंशन स्थायी रूप से रोक दी गई है।
विभिन्न क्षेत्रों के इन अधिकारियों में एक अधीक्षण अभियंता, दो कार्यकारी अभियंता, दो सहायक अभियंता, एक कनिष्ठ अभियंता, एक ओएएस अधिकारी, एक मुख्य जिला पशु चिकित्सा अधिकारी (सीडीवीओ) और एक सामाजिक शिक्षा अधिकारी शामिल हैं।
इससे पहले 164 अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। इन नौ अधिकारियों को मिलाकर इनकी संख्या 173 तक पहुंच गई है।
जानकारी के अनुसार, मालकानगरि के ग्रामीण विकास मंडल-1 के पूर्व अधीक्षण अभियंता आशीष कुमार दास उन पांच अधिकारियों में शामिल हैं, जिन्हें नौकरी से बर्खास्त किया गया है। विजिलेंस ने ठेकेदारों से 10.23 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए उसे गिरफ्तार कर लिया था। विभिन्न स्थानों पर उसकी संपत्तियों की तलाशी के बाद 8.63 करोड़ रुपये की संपत्ति और 1.4 करोड़ रुपये की नकदी जब्त की गई थी। उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी गई है।
इसी तरह भद्रक ग्रामीण विकास प्रमंडल-1 के पूर्व अधिशासी अभियंता मानस रंजन मोहंती को एक ठेकेदार से 30 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी ने पकड़ा था। इसके अलावा, उनके पास 3.90 करोड़ रुपये की आय से अधिक संपत्ति भी पाई गई थी। उसके खिलाफ दो विभागीय जांच भी चल रही थी। उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति भी दे दी गई है।
इसके अलावा, कटक गंदरपुर ड्रेनेज डिवीजन के कार्यकारी अभियंता मनोज कुमार बेहरा और उनकी पत्नी पर रुपये से अधिक की आय से अधिक 4.26 करोड़ की संपत्ति रखने का आरोप लगा था। उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति भी दे दी गई है।
इसके अलावा, केंदुझर जिले के सालपड़ा में बैतरणी सिंचाई संभाग के सहायक अभियंता उमेश कुमार शशिनी के खिलाफ आय से अधिक 1.42 करोड़ की संपत्ति अर्जित करने के आरोप में एक भ्रष्टाचार का मामला है। उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति भी दे दी गई है।
इसी तरह से उमरकोट सड़क और भवन (आर एंड बी) अनुभाग के सहायक अभियंता बिशुद्धानंद बेहरा पर घटिया काम का आरोप था। इसके साथ ही उनके नाम पर 70.93 लाख रुपये की आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में भ्रष्टाचार का मामला भी था। उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति भी दे दी गई है।
पारलाखेमुंडी के सेवानिवृत्त पूर्व मुख्य जिला पशु चिकित्सा अधिकारी (सीडीवीओ) जलाधर मल्लिक पर तबादला के लिए 10,000 रुपये रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया था। उनकी पेंशन स्थायी रूप से रोक दी गई है।
गंजाम जिला ग्रामीण निर्माण संभाग-2 के सेवानिवृत्त पूर्व कनिष्ठ अभियंता त्रिनाथ सेठी को नौ हजार रुपये की रिश्वत लेने के मामले में दोषी करार दिया गया था। उनकी पेंशन स्थायी रूप से रोक दी गई है।
मयूरभंज जिले के समाखुंटा प्रखंड की पूर्व तहसीलदार सबिता साहू के नाम पर 10 हजार रुपये की घूस लेने का मामला था, जो अब बालेश्वर जिले में डिप्टी कलेक्टर हैं, उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है।
एक विधवा से तीन हजार रुपये रिश्वत लेने के आरोपी बलांगीर जिले की पूर्व सामाजिक शिक्षा अधिकारी प्रभाषिनी बाबू को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है।

About desk

Check Also

कटक में एक चौक को अग्रसेन चौक नामित करने की मांग

मेयर सुभाष सिंह ने दिया हरसंभव पूरा करने का आश्वासन कटक। अग्रवाल सम्मेलन ओडिशा पूर्वी …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RSS
Follow by Email
Telegram