Sunday , November 28 2021
Breaking News
Home / Odisha / जिन्दगी फाउण्डेशन की मुहिम ला रही है रंग

जिन्दगी फाउण्डेशन की मुहिम ला रही है रंग

  •  एमकेसीजी मेडिकल कालेज ब्रह्मपुर में एमबीबीएस में पढ़ रही मेधावी छात्रा को मिली छात्रवृत्ति

  •  पांच वर्षों के मेडिकल अध्ययन के लिए शालोनी हार्ट फाउण्डेशन ने बढ़ाया मदद का हाथ

    भुवनेश्वर. जिन्दगी फाउण्डेशन की मुहिम रंग ला रही है. एमकेसीजी मेडिकल कालेज ब्रह्मपुर में एमबीबीएस में पढ़ रही मेधावी छात्रा को छात्रवृत्ति मिली है. पांच वर्षों के मेडिकल अध्ययन के लिए शालोनी हार्ट फाउण्डेशन ने मदद का हाथ बढ़ाया है. मधुसूदननगर, भुवनेश्वर ‘जिन्दगी फाउण्डेशन’ के कार्यालय में फाउण्डेशन के संस्थापक डा अजय बहादुर सिंह की उपस्थिति में केलिफोर्निया की एनजीओ शालोनी हार्ट फाउण्डेशन के संस्थापक हिमांशु सेठ ने जिन्दगी फाउण्डेशन के सौजन्य से एमकेसीजी मेडिकल कालेज ब्रह्मपुर के एमबीबीएस डिग्री कोर्स पढ़ रही मेधावी छात्रा कृष्णा मोहंती की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है. पांच वर्षों के लिए मेडिकल अध्ययन के लिए शालोनी हार्ट फाउण्डेशन की ओर से आर्थिक सहयोग के रुप में छात्रवृति, अध्ययन में सहायता के लिए लैपटॉप तथा छात्रवृत्ति प्रमाणपत्र प्रदान किया गया. इस मौके पर कृष्णा मोहंती की मां बिमला मोहंती भी उपस्थित थीं. वह 2010 से इलीसा पीठा अपने घर में तैयार कर भुवनेश्वर इस्कान मंदिर में आपूर्तिकर अपना जीवन-यापन कर रहीं हैं. केलीफोर्निया से आये शालोनी हार्ट फाउण्डेशन के संस्थापक हिमांशु सेठ ने बताया कि उन्होंने नेट पर जिन्दगी फाउण्डेशन भुवनेश्वर के संस्थापक डा अजय बहादुर सिंह के बाल्यकाल की आर्थिक दयनीय स्थिति को देखा तथा पढ़ा. जिन्दगी फाउण्डेशन की मेधावी छात्रा कृष्णा मोहंती के विषय में विस्तृत जानकारी प्राप्त की. उन्होंने बताया कि उनकी की बेटी शालोनी हृदयरोग से ग्रसित थी तथा सही इलाज न होने के कारण कम ही उम्र में चल बसी. इसलिए उनके फाउण्डेशन की ओर से यह पहली मेडिकल छात्रवृत्ति कृष्णा मोहंती को प्रदान की गई है. उनके फाउण्डेशन की स्थापना गत वर्ष 2019 में की गई. जिन्दगी फाउण्डेशन के संसथापक डा अजय बहादुर सिंह ने सेठ को अपने जिन्दगी फाउण्डेशन की असाधारण उपलब्धियों पर आधारित फिल्म दिखायी और अपने उन मेधावी छात्रों से मिलाया, जो ओडिशा के विभिन्न सरकारी मेडिकल कालेजों में वर्तमान सत्र में एमबीबीएस डिग्री कोर्स कर रहे हैं, उनमें प्रमुख थे अवनिकांत स्वाईं, ओम सिंह तथा अनिरुद्ध नायक. डा अजय बहादुर सिंह ने बताया कि जिन्दगी के छात्रों को उनकी ओर से सबसे पहले तलाश की जाती है फिर उनको निःशुल्क रखकर उन्हें हरप्रकार से आवासीय सह शैक्षणिक तथा मेडिकल कोचिंग आदि प्रदान दी जाती है और उन्हें डाक्टर बनाकर समाजसेवा के लिए भेजा जाता है. गौरतलब है कि डा अजय बहादुर सिंह आकाश भुवनेश्वर के निदेशक हैं तथा अद्यंत प्लस-टू साइंस कालेज भुवनेश्वर के चेयरमैन हैं, जो झारखण्ड देवघर से आकर भुवनेश्वर में ओडिशा के गरीब मेधावी बच्चों को मेडिकल तथा इंजीनियरिंग की कोचिंग देते हैं तथा जिन्दगी फाउण्डेशन की ओर से प्रतिवर्ष मुफ्त सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराकर बच्चों को मेडिकल कालेजों में दाखिला दिलाने का काम करते हैं.

About desk

Check Also

ओडिशा में कोरोना से और एक की मौत, कुल मौतों की संख्या 8407 हुई

भुवनेश्वर. ओडिशा में कोरोना से और एक संक्रमित की मौत हो गई है. इसके साथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram