Wednesday , December 1 2021
Home / Odisha / कार्तिक पूर्णिमा ओडिशा में बोईत बंदाण उत्सव, तीन की मौत

कार्तिक पूर्णिमा ओडिशा में बोईत बंदाण उत्सव, तीन की मौत

  • लाखों लोगों ने लगाई डुबकी, नदियों तालाबों में बहाय नाव

  • डूबने से तीन की मौत


भुवनेश्वर – कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर ओडिशा के सभी गांवों व शहरों को लेकर महानगर तक सभी स्थानों पर बोईत बंदाण उत्सव का आयोजन किया गया । मंगलवार तड़के ही लोग महोदधि के साथ-साथ विभिन्न नदियों व तालाबों में जा कर नावों को प्रवाहित किया । इसके साथ ही लाखों लोगों ने सुबह समुद्र, नदी व तालाबों में डुबकी लगाई । इस दौरान डूबने से तीन की मौत की खबर है।


उल्लेखनीय है कि पूर्व में ओडिशा से लोग कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही समुद्र के जरिये नावों से इंडोनेशिया, बाली, सुमात्रा, जावा आदि स्थानों पर व्यापार करने के लिए जाते थे । इस पंरपरा को याद रखने के लिए आज भी ओडिशा के लोग कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही नाव (बोइत) लेकर समुद्र, नदी व तालाबों में बहाते हैं । इसे बोइत बंदाण कहते हैं । पुरी व चंद्रभागा के समुद्र तट पर हजारों की संख्या में लोग इकट्ठे होकर बोइत बंदाण किया और ओडिशा के ऐतिहासिक नौवाणिज्य परंपरा को याद किया ।   कार्तिक पूर्णिमा के दिन नदी में नाव बहाते समय पैर फिसलने के कारण दो लोगों की मौत हो गई है । दोनों घटनाएं रायगड़ा जिले से हैं । प्राप्त जानकारी के अनुसार, रायगड़ा के नागाबली नदी में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर नाव बहा कर बोइत बंदाण करने तथा डुबकी लगाते समय एक छात्र का पैर फिसल गया । इससे वह नदी के बहाव में वह डूब गया । इस कारण उनकी मौत हो गई है । मृतक छात्र का नाम सुमन बेहेरा है  और वह रायगड़ा के एक तकनीकी संस्थान में छात्र था। अग्निशमन विभाग के जवानों ने उनका शब बरामद किया है । इसी तरह रायगड़ा जिले के ही गुणुपुर गुमड़ा में बांशधारा नदी में एक युवक की मौत हो गई है। मृतक का नाम संतोष जेना है । वह अपने परिवार के अन्य लोगों के साथ बांशधारा नदी में नाव बहाने के लिए आया था, लेकिन नदी में डूबकी लगाने के समय वह डूब गये थे ।  उनका शब भी बरामद कर लिया गया है।

इधर, कोरापुट जिले के गुप्तेश्वर में कोलाब नदी में पैर फिसलने के कारण एक छात्र लापता हो गया है । अग्निशमन विभाग की टीम ने तलाशी अभियान शुरु किया है । प्राप्त जानकारी के अनुसार, बैपारीगुड़ाल के बी. रीतिक आचारी नामक एक छात्र अपने मित्रों के साथ गुप्तेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए आया था। इसके बाद वे पास में स्थित कोलाब नदी के पास घूमने गये थे। वहां उनका पैर फिसल गया वह नदी में बह गये । इस बारे में अग्निशमन विभाग की टीम घटनासथल पर पहुंच कर तलाशी अभियान शुरु किया है।

About desk

Check Also

एनजीएमए और कीस-कीट में करार

 आदिवासी आर्ट, क्राफ्ट तथा संस्कृति आदि को मिलेगा संरक्षण और प्रोत्साहन भुवनेश्वर. नई दिल्ली में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email
Telegram